मिग-21 के मुकाबले एफ-16 लड़ाकू विमान कहीं ज्यादा ताकतवर और आधुनिक है. - लकिन जो जज्बा हमारे भारत के वीरों के सिने में है वो दुनिया में और कहीं नहीं है.
और बस यही कारण है की आज भारत की बढ़ती शक्ति को देख के सारी दुनिया परेशान हैरान  है. आईये एक नजर में दोनों विमानों की ताकत पे नजर डालते है.
उसके बाद अप्प खुद निर्णय ले सकते है की कहाँ पे भारत की वीर अभिनन्दन जैसे हजारो सपूत अपनी जान की बाजी तक लगा कर  भारत माँ की रखा करते है

1. F-!6 (जनरल डायनामिक्स एफ-16 फ़ाइटिंग फ़ॉल्कन) -:

एक अमेरिकी मल्टी रोल लडाकू विमान है। जिसे मूलतः अमेरिका की ही जनरल डायनामिक्स ने अमेरिकी वायु सेना के लिए बनाया था. जिसकी प्रथम उड़ान: प्रथम उड़ान: 20 जनवरी 1974 में हुयी थी, यह अमेरिका द्वारा निर्मित चौथी जनेरेशन का सबसे आधुनिक लड़ाकू विमान है।।ये हर मौसम में अपने लक्ष्य का निर्धारण करता है, हवा से हवा में मार करने वाली 6 मिसाइलें और हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइलें, कुछ परमाणु हथियारों के साथ साथ, 9 जगहों पर बम और मिसाइलें फिट की जा सकती हैं। उम्दा जीपीएस नैविगेशन भी इसकी खासियत है.रात में या खराब मौसम में भी, मुकाबला करने के लिए चार एयर-टू-एयर और सात एयर-टू-ग्राउंड ऑपरेटिंग मोड प्रदान करता है,
सुपरसोनिक, बहु-भूमिका सामरिक लड़ाकू विमान है। यह अपने पूर्ववर्तियों की तुलना में बहुत छोटा और हल्का है, लेकिन उन्नत एयरोडायनामिक्स और एवियोनिक्स का उपयोग करता है,

सीमा: 4,220 कि.मी.
वज़न: 9,207 kg
लंबाई: 15 मी
इंजन के प्रकार: General Electric F110, टर्बोफैन

F-शृंखला - एफ-16,एफ-22A,एफ-35A


2 MIG 21 - (मिकोयान-गुरेविच मिग-21)

 एक सुपरसोनिक लड़ाकू जेट विमान है जिसका निर्माण सोवियत संघ रूस के मिकोयान-गुरेविच डिज़ाइन ब्यूरो ने किया है।  क्योंकि यह रुसी संगीत वाद्य ऑलोवेक की तरह दीखता था। इसीलिए इसे "बलालैका" के नाम से बुलाया जाता था और कही फिशबेड नाम से भी,मिग-21 बाइसन में एक बड़ा सर्च एंड ट्रैक रडार लगा है जो रडार नियंत्रित मिसाइल को संचालित करता है और रडार गाइडेड मिसाइलों का रास्ता तय करता है.
इसमें बीवीआर तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जो आखों से ओझल मिसाइलों के ख़िलाफ़ सामान्य लेकिन घातक लड़ाकू विमान को युद्ध क्षमता के योग्य बनाता है.
इन लड़ाकू विमानों में इस्तेमाल किए गए इलेक्ट्रॉनिक और इसकी कॉकपिट उन्नत क़िस्म की होती है. मिग-21 बाइसन, ब्राज़ील के अपेक्षाकृत नए एफ़-5ईएम फ़ाइटर प्लेन के समान है.

उपयोगी भार: 8,725 किलोग्राम (19,230 पौंड) 2 × के-13ए मिसाइल के साथ
अधिकतम उड़ान वजन: 9,800 किलोग्राम (21,600 पौंड)
उच्चतम गति: (लगभग) 1,300 किमी/घंटा
लैंडिंग की गति: 350 किमी/घंटा (190 किलोन्यूटन), आमतौर पर ड्रग पैराशूट के साथ
सीमा: 644 कि.मी.
लंबाई: 16 मी (लगभग)
इंजन के प्रकार: टर्बो जेट
प्रकार: चेंगडू जे-7
अधिकतम सेवा सीमा: 17,500 मी (57,400 फीट)


 MIG शृंखला - मिग-1 मिग-3 मिग-5 मिग-7 मिग-9 मिग-15 मिग-17 मिग-19 मिग-21 मिग-23 मिग-25 मिग-29 (एम/के) मिग-31 मिग-35 मिग-41