BHIM ऐप -:

भारत इंटरफेस फॉर मनी (बीएचआईएम) यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) के आधार पर भारत के राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) द्वारा विकसित एक मोबाइल ऐप है।बीएचआईएम उपयोगकर्ताओं को यूपीआई भुगतान पते पर या गैर-यूपीआई आधारित खातों (खाता संख्या और आईएफएससी कोड या एमएमआईडी (मोबाइल मनी आइडेंटिफायर) कोड के साथ एक क्यूआर कोड स्कैन करके) भेजने या प्राप्त करने की अनुमति देता है।
भीम एप यूपीआई पेमेंट सिस्टम पर काम करता है

बीएचआईएम(BHIM) ऐप केवल एक तंत्र है जो विभिन्न बैंक खातों के बीच धन स्थानांतरित करता है। बीएचआईएम पर लेनदेन लगभग तात्कालिक हैं और सप्ताहांत और बैंक छुट्टियों सहित 24/7 किया जा सकता है।

कैशलेस इकोनॉमी की दिशा में देश को आगे बढ़ाने के लिए केन्द्र सरकार ने डिजिटल पेमेंट के नए ऐप भीम (BHIM- भारत इंटरफेस फॉर मनी ) की शुरुआत की है. भीम ऐप आपके बैंक खाते से सीधे तौर पर जुड़ा रहता है, वहीं पेटीएम ऐप में आप अपने बैंक खाते से पैसे ट्रांसफर करते हैं.


यह बहुत आसान है और मुझे यह पसंद है

BHIM ऐप के फायदे -:

 - एप्प एक बैंक अनेक, जी हा किसी भी बैंक को हम जॉब सकते है.यहाँ तक की मल्टीप्ल बैंक को भी.
 - E – बटुआ (wallet) की तरह इसमें पैसे रखने जैसा कोई झंझट नहीं है.
 - इससे आप आसानी से घर बैठे एकदम जल्दी किसी भी दिन किसी भी समय अपने मोबाइल के माध्यम से पैसे का लेन-देन कर सकते है .
 - भीम ऐप बिना इन्टरनेट के भी काम करेगा | इसकी एक खास बात यह भी है कि लेन-देन करते समय खाता संख्या तथा IFSC जैसी विवरण की जरुरत नहीं पड़ती है.
 - क्यूआर कोड की मदद से भी पैसों का लेन – देन कर सकते है .
 - सबसे अच्छी बात है कि BHIM ऐप हिंदी और अंग्रेज़ी दोनों भाषाओं में उपलब्ध है |

 BHIM ऐप के नुकसान -:

BHIM ऐप फायदा होने के साथ साथ नुकसान भी बहुत है.

 - आपको आपका UPI पासवर्ड आगे किसी और के हाथ लग जाता है तो वो आपके पैसे निकल अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर सकता है. वो बात अलग है की आपको पता लग जायेगा की कौन से बैंक में ट्रांफर हुए है.
 - RBI का अलर्ट RBI ने कहा कि यूजर्स AnyDesk मोबाइल ऐप को डाउनलोड नहीं करें। ये ऐप डाउनलोड करने के बाद आपसे कुछ परमिशन मांगता है जिसके बाद हैकर्स आपके अकाउंट तक पहुंच सकते हैं। हैकर्स आपके अकाउंट से पैसा चुरा लेंगे आपको पता भी नहीं चलेगा। ये ऐप रिमोट कंट्रोल जैसा है जिसका यूज कई डिवाइस को जोड़ने के लिए किया जाता है।उसके बाद ऐप फोन में मौजूद अन्य पेमेंट्स ऐप्स के जरिए फ्रॉड ट्रांजेक्शन करने    के लिए कॉन्फिडेंशल डाटा चुराता है। वहीं, AnyDesk यूजर के डिवाइस पर 9 अंकों का ऐप कोड जेनरेट करता है और साइबर अपराधी कॉल कर यूजर से वह कोड बैंक के नाम पर मांगते हैं।


रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने एक नोटिफिकेशन जारी करके ग्राहकों को अलर्ट किया है। बैंक का कहना है कि UPI (यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस) के जरिए किए गए ट्रांजैक्शन से आपके अकाउंट का पैसा चोरी हो सकता है। RBI के इस तरह के फ्रॉड की लगातार शिकायतें मिल रही हैं। बैंक ने नोटिफिकेशन में कहा है कि कस्टमर्स AnyDesk ऐप का यूज नहीं करें। यदि किसी के फोन में ये ऐप है तो उसे तुरंत अनइन्स्टॉल कर दें।